विद्यार्थी विकास योजनाएं

You are here

तकनीकी शिक्षा को संवर्धित करने के लिए अभातशिप द्वारा संचालित विभिन्न योजनाएं और विशेष छात्रवूत्तियों को जाने

स्नातकोत्तर छात्रवृत्ति

अभातशिप अनुमोदित संस्थाओं/महाविद्यालयों में एम.ई/एम.टेक/एम आर्क और एम फार्मा के प्रवेश दिए गए गेट/जीपएटी अर्हता प्राप्त छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है 12,400/- प्रति माह/छात्र की दर से।

प्रधानमंत्री विशेष छात्रवृत्ति योजना-पीएमएसएसएस

इस योजना का उद्देश्य जम्मू-कश्मीर के युवाओं की सक्षमताओं का निर्माण करना, उन्हें सामान्य परिस्थिति में शिक्षा प्रदान करना, समर्थ बनाना तथा प्रति स्पर्धा के लिए सुदृढ़ बनाना, तथा जम्मू-कश्मीर के छात्रों में रोजगार क्षमताओं का संवर्धन करना और उन्हें प्रोत्सहन देना है। प्रत्येक वर्ष सामान्य डिग्री के लिए अनुरक्षण प्रभारों के रूप में 10,00,000/-रू. और शैक्षणिक शुल्क के लिए 30,000/- तथा इंजीनियरी डिग्री के लिए 1,25,000/- और चिकित्सा डिग्री के लिए 3,00,000/- की कुल 3430 छात्रवृत्तियां प्रदान की जाती हैं।

प्रगति छात्रवृति

अभातशिप अनुमोदित तकनीकी संस्थाओं में डिग्री / डिप्लोमा में प्रवेश लेने वाली मेधावी लड़कियों को छात्रवृत्ति / आकस्मिक व्यय हेतु राशि प्रदान की जाती है। प्रति वर्ष कुल 4000 छात्रवृत्तियां रु० 30000 / - प्रति छात्रा शिक्षण शुल्क प्रतिपूर्ति तथा रु० 20,000/- आकस्मिक व्यय प्रदान किया जाता हैं।

सक्षम छात्रवृति

अभातशिप अनुमोदित तकनीकी संस्थान में डिग्री / डिप्लोमा में प्रवेश लेने वाले दिव्यांग छात्रों को छात्रवृत्ति / आकस्मिक व्यय हेतु राशि प्रदान की जाती है। प्रति वर्ष कुल 1000 छात्रवृत्ति रु० 30000 / -प्रति छात्रा शिक्षण शुल्क प्रतिपूर्ति तथा रु० 20,000/- आकस्मिक व्यय प्रदान किया जाता हैं।

अभातशिप - आईएनएई यात्रा अनुदान योजना

देश के बाहर सम्मेलनों में भाग लेने के लिए संकाय को सहायता प्रदान करना। वित्त - पोषण की सीमा 1.5 लाख रूपए प्रति संकाय है।

स्मार्ट इंडिया हैकेथॅान 2017

स्मार्ट इंडिया हैकेथान 2017 कार्यक्रम के अंतर्गत हमारे देश के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने के लिए नए और अभिनव डिजिटल समाधानों की पहचान हेतु एक विशिष्ट पहल है। यह आयोजन 36 घंटे निरंतर चली प्रतिस्पर्धा के रूप में 1-2 अप्रैल, 2017 को आयोजित किया गया था। इसमें 9544 प्रौद्योगिकी छात्रों, 598 समस्या विवरणों, 29 विभिन्न केन्द्रीय सरकार के मंत्रालयों, 26 विभिन्न नोडल केन्द्रों की प्रतिभागिता तथा 100 अर्हता प्राप्त टीमों को 3 लाख प्रति टीम का वित्त - पोषण किया गया।

लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमईएस) के साथ इंटर्नशिप के रूप में एम टेक परियोजना

इस योजना का मुख्य उद्देश्य एक ऐसी अभिवनतापूर्ण पारिस्थिकी को संपोषित करना है जो प्रौद्योगिकीय दृष्टि से कमजोर एमएसएमई और तकनीकी संस्थानों, दोनो को लाभ पहुंचाती है। 408 लधु और मध्यम उद्यमों को 738 प्रौद्योगिकी छात्रों की सहायता उपलब्ध कराई गई।

Back to Top