स्टॉफ विकास योजनाएं

You are here

विभिन्न कर्मचारी विकास योजनाओं और कार्यक्रमों के बारे में जानें

संगोष्ठी अनुदान (एसजी)

यह योजना तकनीकी शिक्षा के विभिन्न क्षे़त्रों में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विचार-गोष्ठी/सम्मेलन/संगोष्ठी का आयोजन करने के लिए संस्थाओं को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराती है। इस योजना के अंतर्गत राष्ट्रीय संगोष्ठियों के लिए 1 लाख रूपए तथा अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठियों के लिए 3 लाख रूपए का कुल वित्त-पोषण उपलब्ध कराया जाता है

आईएनएई (टीआरएफ) भारतीय राष्ट्रीय इंजीनियरी अकादमी (शिक्षक अनुसंधान अध्येतावृति)

यह योजना केन्द्रीय प्रयोगशालाओं में डॉक्टोरल रिसर्च के लिए इंजीनियरी शिक्षकों को अध्येतावृति प्रदान करती है ताकि अभातशिप अनुमोदित इंजीनियरी संस्थाओं में संकाय के मध्य अनुसंधान संस्कृति का संवर्धन किया जा सके। तीन वर्ष के लिए प्रति स्कॉलर वित्त-पोषण की सीमा 5-7 लाख रूपए है।

गुणवत्ता संवर्धन कार्यक्रम

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य देश की डिग्री स्तरीय संस्थाओं के संकाय सदस्यों की अर्हताओं का उन्नयन करना हैं। पीएचडी/एमटेक स्कॉलर को 15000/- रूपए प्रतिमाह तथा 5000/- रूपए प्रतिमाह की दर से छात्रवृति प्रदान की जाती है। देश में कुल 94 क्यूआईपी केन्द्र हैं।

संकाय विकास कार्यक्रम (एफडीपी)

इस योजना का आशय अभातशिप अनुमोदित तकनीकी संस्थाओं में नियोजित शिक्षकों को अधिष्ठापन प्रशिक्षण प्रदान करना है ताकि उनके ज्ञान और कौशल के उन्नयन को सुकर बनाया जा सके। 2 सप्ताह के संकाय विकास कार्यक्रम (एफडीपी) के लिए रुपए 5-7 लाख तक की राशि प्रदान की जाती हैं।

सहयोजित संकाय

यह योजना शिक्षण, अनुसंधान और संबंधित सेवाओं में शिक्षाविदों, स्कोलरो, वृत्तिकों, नीति-निर्माताओं की गुणवत्तापूर्ण भागीदारी को प्रोत्साहित करती है। वित्त-पोषण की सीमा 6 लाख रूपए प्रति संकाय प्रति संस्थान हैं।

प्रशिक्षु शिक्षक योजना

यह योजना मेधावी स्नातकपूर्व/स्नातकोत्तर छात्रों को एमटेक/पीएचडी अध्येतावृति तथा सुनिश्चित रोजगार प्रदान करते हुए शिक्षण व्यवसाय के प्रति आकर्षित करती है। वित्त-पोषण की सीमा 2.5 लाख प्रति संस्थान है तथा परियोजना की अवधि 3 वर्ष है।

यात्रा अनुदान योजना (टीजी)

यह योजना मेधावी संकाय को भारत के भीतर तथा विदेश में संगोष्ठियों और विचार-गोष्ठियों तथा अंतरर्राष्ट्रीय स्तर के सम्मेलनों में भाग लेकर परस्पर संपर्क करने में समर्थ बनाती है

अभातशिप-आईएनएई-डीवीपी

अभातशिप और आईएनएई ने उद्योग संस्थान के मध्य पारस्परिक संपर्कों के संवर्धन की परिकल्पना करते हुए विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर योजना आरंभ की है

अभातशिप-आईएसटीई अभिमुखीकरण/पुनश्चर्या कार्यक्रम

इस कार्यक्रम का उद्देश्य तकनीकी संस्थाओं में कार्य करने वाले शिक्षण संकाय के लिए अभातशिप - आईएसटीई अधिष्ठापन/पुनश्चर्या कार्यक्रम संचालित करना है। कुल 100 पुनश्चर्या कार्यक्रमों और 50 अभिमुखीकारण कार्यक्रमों का आयोजन 3,00,000 रू प्रति कार्यक्रम के वित्त - पोषण द्वारा किया जाता है।

Back to Top